बेकरार बेताब है ये दिल मिलने को उस दिल से,
हर जन्म हर ज़िंदगी है हमारी आपसे.

हमारी हसी में भी छिपे हर दर्द को पहचान लेते हो,
बेहद खुशनसीब हैं हम पाकर आपको.

बारिश में भी भीगे अश्क़ भी पहचान लेते हो,
बयान भी नहीं कर सकते कितना चाहते हैं हम आपको.

हमसे ज़्यादा तो आप जानते हो हमें,
आपको ही हर जन्म माँगते अपनी हर दुआ में.

शामिल हो हमारी रूह में आप ऐसे,
दिल की धड़कनो को साँसे चाहिए जैसे.

आँखो में छलक आते हैं खुशी के आँसू,
जिस कदर प्यार करती है हमसे आपकी आबरू.

नज़र ना लगे कभी आपको मेरी जान,
आप हो हमारे पास तो है जान में जान.

आप जैसे फ़िक्र करते हो हमारी,
बहुत अच्छा लगता है हमें नुन्नु सी जान प्यारी.

आपकी धड़कनो से चलती हैं साँसे हमारी,
सुकून मिलता है सुनके आपकी आवाज़ प्यारी.

आ जाओ ना जल्दी से आके,
लगालो हमको अपने सीने से.

बेकरार बेताब है ये दिल मिलने को उस दिल से,
हर जन्म हर ज़िंदगी है हमारी आपसे.

you can read more poetry here