Author: Gyanihuman

बेकरार बेताब है ये दिल मिलने को उस दिल से, हर जन्म हर ज़िंदगी है हमारी आपसे.

बेकरार बेताब है ये दिल मिलने को उस दिल से, हर जन्म हर ज़िंदगी है हमारी आपसे. हमारी हसी में भी छिपे...

Read More